Scrollup

सरकारी तंत्र का बेजा इस्तेमाल करते हुए दोषी भाजपा अध्यक्ष के बेटे को बचा रही है भाजपा सरकार

चंडीगढ़ में जिस तरह से एक बेटी के साथ हरियाणा बीजेपी के नेता सुभाष बराला के बेटे विकास बराला और उसके दोस्त ने छेड़खानी और उसका अपहरण करने की कोशिश की है, इस कृत्य की आम आदमी पार्टी निंदा करती है और मांग करती है कि ऐसे लोगों के ख़िलाफ़ कानून के मुताबिक़ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए और दोषियों को सज़ा दिलाई जाए, चाहे फिर ऐसे लोग कितना बड़ा रसूख़ ही क्यों ना रखते हों या फिर कितने भी प्रभावशाली हों, अपराधियों को सज़ा मिलनी ही चाहिए।

इस मुद्दे पर पार्टी कार्यालय में आयोजित हुई प्रैस कॉंफ्रेंस में बोलते हुए आम आदमी पार्टी की विधायक अल्का लाम्बा ने कहा कि ‘जिस तरह का वाकया चंडीगढ़ में पेश आया है वो बेहद ही निंदनीय है, हरियाणा भाजपा के अध्यक्ष के बेटे ने जिस तरह से एक बेटी के साथ सड़क पर बदसलूकी की और उसका अपहरण करने की कोशिश की उससे साफ़ ज़ाहिर होता है कि चाहे बीजेपी के नेता हो या फिर उनके बिगड़ैल पुत्र हों, इन लोगों पर सत्ता का नशा इस कदर चढ़ा हुआ है कि ये लोग हमारी बहन-बेटियों तक के साथ बदसलूकी करने से बाज़ नहीं आते हैं। उपर से ऐसे लोगों को बचाने के लिए भारतीय जनता पार्टी के नेता और अपनी पूरी सरकार और सिस्टम तक को लगा देते हैं जो बेहद ही शर्मनाक हैं।

पत्रकारों से बात करते हुए पार्टी की राष्ट्रीय प्रवक्ता और महिला संगठन की दिल्ली प्रदेश संयोजक रिचा पांडे मिश्रा ने कहा कि ‘चंडीगढ़ में बीजेपी नेता के बिगड़ैल बेटे के शर्मनाक कृत्य ने यह साबित कर दिया है कि यह पार्टी बेटियों के सम्मान को कुचलने की मंशा रखती है और यही भारतीय जनता पार्टी का चाल, चरित्र और चेहरा है। बेटी बचाओ और बेटी बढ़ाओ का नारा बीजेपी नेताओं के लिए सिर्फ़ एक जुमला है क्योंकि इनका चरित्र मानसिक तौर पर ही महिला विरोधी है। पहले ये महिलाओं के साथ बदसलूकी करते हैं और अब पूरे सरकारी तंत्र का बेजा इस्तेमाल करते हुए भारतीय जनता पार्टी अपराधियों को बचाने का प्रयास कर रही है।

दिल्ली पुलिस की तरह चंडीगढ़ की पुलिस भी केंद्र में बैठी भाजपा सरकार के आधीन आती है और भाजपा नेता पुलिस पर दबाव बनाकर इस मामले में अपराधी हरियाणा बीजेपी अध्यक्ष के बेटे को बचाने का प्रयास कर रहे हैं जो बेहद शर्मनाक है। हम केंद्र और हरियाणा सरकार में बैठी भारतीय जनता पार्टी से कुछ सवाल पूछना चाहते हैं-

1. चंडीगढ़ में हुए इस कृत्य पर भारतीय जनता पार्टी का स्टैंड क्या है?
2. किसने पुलिस पर अपहरण की और ग़ैर-ज़मानती धाराओं को हटाने का दबाव बनाया?
3. चंडीगढ़ जैसे बेहद सुरक्षित शहर में अचानक सीसीटीवी फुटेज की रिकॉर्ड़िंग क्यों नहीं मिल रही है? कहीं ऐसा तो नहीं कि जानबूझकर फुटेज डीलिट करवाई गई हैं?
4. अपराधियों को कानून के मुताबिक़ उचित सज़ा दिलाने की मंशा को लेकर भाजपा क्या सोचती है?

When expressing your views in the comments, please use clean and dignified language, even when you are expressing disagreement. Also, we encourage you to Flag any abusive or highly irrelevant comments. Thank you.

Ravi Brahmapuram

11 Comments

    • srinivas

      SHOCKING, IF TRUE

      A Delhi government school is giving tough competition to private School in Delhi

      cc @ArvindKejriwal @msisodia

      Share Max pic.twitter.com/8B79BPHZF1

      reply
    • srinivas

      WATCH N SHARE

      Dy CM @msisodia speaks about Mid-Day Meal facilities in Govt Schools.

      #AkshayaPatra Pilot Project to start soon for meals pic.twitter.com/Hgu20GFL1B

      reply
    • srinivas

      List of Scams by Diff. State Govts. in India. Surprisingly @AamAadmiParty led Delhi Govt has no Scams. Inspiring ! pic.twitter.com/LXSOrHsp2G

      reply
    • srinivas

      Finally, after declaring for months that Aadhar is 100% secure, Nilekani concedes today that Aadhar data security is a big concern. pic.twitter.com/o25lqiQocO

      reply
    • Sadia

      You have improved and redesigned your party’s website but you have done nothing to improve the website of Delhi Government. When will you improve and redesign Delhi Government’s website?

      reply
    • srinivas

      Delhi’s @ArvindKejriwal govt to rope in NGO @AkshayaPatra for midday meal scheme.

      It targets to cover 1.5 lakh children. pic.twitter.com/VVdGw3ev5N

      reply
    • Kishore

      Comparitively old much better than upgraded site

      reply
      • Kamal Kumar Basu

        You are right. Initially it looked very attractive but the old set-up was more user friendly.

        reply

Leave a Comment